शनिवार, 12 मार्च 2011

होली है त्यौहार प्यार का


                                    होली है  त्यौहार  प्यार  का,
                                    रंग, मिठाई और गुलाल का.


                                    जब होली की लौ उठती हैं,
                                    सभी  बुराई  भी  जलती हैं.


                                    केवल  रंग   प्यार  के  बचते,
                                    जिसको सब चहरों पर मलते.


                                    नहीं फर्क धर्मों का कोई,
                                    रंग  लगाता  है हर कोई.
                                    
                                    खेल  चुके  हैं  रंग  बहुत  अब,
                                    आओ गुझिया खायें मिल सब.

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रेरणादायक होली के रंग | धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  2. खेल चुके हैं रंग बहुत अब,
    आओ गुजिया खायें मिल सब.

    होली के साथ-साथ गुझिया की याद दिला दी । यहाँ कहाँ मिलेगी मुझे ? खैर कोई बात नहीं , गुझिया का आनंद लेने हम यहीं आते रहेंगे और रंगों के साथ गुझिया का भी आनंद लेते रहेंगे। इस प्रेम भाव से सिंचित बेहतरीन कविता के लिए आभार।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    नि:शुल्‍क संस्‍कृत सीखें । ब्‍लागजगत पर सरल संस्‍कृतप्रशिक्षण आयोजित किया गया है
    संस्‍कृतजगत् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो संस्‍कृत के प्रसार में अपना योगदान दें ।

    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही अच्छे शब्द है ! आपका दिन शुब हो
    मेरे ब्लॉग पर आए !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली की अच्छी समा आपने बाँधी है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यहाँ आकर तो मज़ा आ गया भाई साहब !

    बाल कविता की सरलता और सरसता हर किसी के बस की बात नहीं !
    बच्चों में आप खूब समाँ बांधते होंगे !
    शुभकामनायें आपको !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. नहीं फर्क धर्मों का कोई,
    रंग लगाता है हर कोई.
    खेल चुके हैं रंग बहुत अब,
    आओ गुझिया खायें मिल सब......

    होली की बहुत सुंदर...बहुत प्यारी कविता...
    फागुनी शुभकामनायें एवं आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर ! उम्दा प्रस्तुती!

    आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  9. होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं। ईश्वर से यही कामना है कि यह पर्व आपके मन के अवगुणों को जला कर भस्म कर जाए और आपके जीवन में खुशियों के रंग बिखराए।
    आइए इस शुभ अवसर पर वृक्षों को असामयिक मौत से बचाएं तथा अनजाने में होने वाले पाप से लोगों को अवगत कराएं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाये!
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  11. रंग के त्यौहार में
    सभी रंगों की हो भरमार
    ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार
    यही दुआ है हमारी भगवान से हर बार।

    आपको और आपके परिवार को होली की खुब सारी शुभकामनाये इसी दुआ के साथ आपके व आपके परिवार के साथ सभी के लिए सुखदायक, मंगलकारी व आन्नददायक हो। आपकी सारी इच्छाएं पूर्ण हो व सपनों को साकार करें। आप जिस भी क्षेत्र में कदम बढ़ाएं, सफलता आपके कदम चूम......

    होली की खुब सारी शुभकामनाये........

    सुगना फाऊंडेशन-मेघ्लासिया जोधपुर,"एक्टिवे लाइफ"और"आज का आगरा" बलोग की ओर से होली की खुब सारी हार्दिक शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...