शनिवार, 26 मार्च 2011

प्यारा कुत्ता

कुत्ता कितना  वफ़ादार है,
करता मालिक से प्यार है.

जब भी हम बाहर से आते,
उछल कूद कर प्यार जताता.
अगर डांटते  शैतानी पर,
कोने में जा कर छुप जाता.

जब हम  सब सोते  होते हैं,
यह घर की रखवाली करता.
अगर कोई भी आहट होती,
भोंक भोंक चौकन्ना करता.

जो हम खायें वह यह खाता.
नहीं कोई नखरे यह करता.
मेरे साथ पार्क में जाकर,
बड़े मज़े में बाल खेलता.

वफादार, प्यारा, सुन्दर है,
नहीं बुद्धि में इसकी सानी.
पता नहीं क्यों दुनियां में,
कुत्ता शब्द समझते गाली?

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर कविता| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुदर बाल कविता है...बच्चों को भाने वाली....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत प्‍यारी बाल रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही अच्छा पोस्ट है जी आपका !हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर जरुर आना !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    उत्तर देंहटाएं
  5. aadarniy sir
    aapne bilkul sahi likha hai .kutta to insaan se bhi jyaada samajh dar hota hai .malik ka diya khata hai to karz chukana bhi janata hai.
    bahit hi achhi
    prastuti
    sadar dhanyvaad
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुत्ता कितना वफ़ादार है,
    करता मालिक से प्यार है.

    जब भी हम बाहर से आते,
    उछल कूद कर प्यार जताता.
    अगर डांटते शैतानी पर,
    कोने में जा कर छुप जाता.

    बहुत बढ़िया पोस्ट!

    उत्तर देंहटाएं
  8. PRABHAVPURNA RACHNA KE LIYE AAPKO SADHUWAD.
    AAPKE QALAM KIRAFTAR BADHATI RAHE..SHUBHECHCHHA.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...