गुरुवार, 30 जून 2011

रिमझिम बारिस




                              रिमझिम रिमझिम बारिस आती,
                                 मन को कितनी ठंडक लाती.

                                     मुरझाये पत्ते हरियाते,
                                     उपवन में पौधे लहराते.
                                     होजाती जीवंत प्रकृति है,
                                     जब काले बादल छा जाते.

                                     जंगल में है मोर नाचता,
                                     भालू अपना ढोल बजाता.
                                     कोयल मीठा गीत सुनाती,
                                     हाथी भी है तान मिलाता.

                                     आओ हम बारिस में भीगें,
                                     झूलों पर लें ऊंची पींगें.
                                     डर कर खड़े हुए क्यों अंदर,
                                     वैसे भरते इतनी डींगें.

                                    
                                     वर्षा गर्मी से है राहत लायी,
                                     हर मन में खुशियाँ हैं छायी.
                                     नया नया सा है सब लगता,
                                     जैसे प्रकृति नहा कर आयी.

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर बालकविता ..वर्षा की सारी खूबियां बता दी हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. करीब १५ दिनों से अस्वस्थता के कारण ब्लॉगजगत से दूर हूँ
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    उत्तर देंहटाएं
  3. बारिश की खूबसूरती का वर्णन करती सुन्दर बाल कविता|

    उत्तर देंहटाएं
  4. आओ हम बारिस में भीगें,
    झूलों पर लें ऊंची पींगें.
    डर कर खड़े हुए क्यों अंदर,
    वैसे भरते इतनी डींगें.


    AAO HUM BAARISH ME BHEEGEN...........

    WAAHHHHHHHHHH

    BAS NAAV CHALAANA BAAKI RAH GAYA....

    BACHPAN KE DIN YAAD DILAATI NANHI AUR PYARI SI KAVITA .......

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर बाल कविता। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर कविता! शानदार प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर कविता! शानदार प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज 21/01/2013 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...