सोमवार, 12 नवंबर 2012

आओ सब एक दीप जलायें

                    **दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं** 

आओ सब एक दीप जलायें,
मिलजुल कर त्यौहार मनायें.
भेद भाव के अंधियारे को 
मिलकर के हम आज भगायें.

किसी भी घर न हो अंधियारा,
एक दीप हर द्वार जलायें.
एक एक टुकड़ा मिठाई का
मिल कर साथ सभी के खायें.

फुलझडियां, अनार, पटाखे,
मिल कर के हम साथ चलायें.
लेकिन इतना ध्यान रखें हम 
पर्यावरण न दूषित हो जायें.

हर त्यौहार खुशी लाता है,
प्रेम प्रीत से सभी मनायें.
धर्म जाति का भेद भुलाके,
आओ सबको गले लगायें.

कैलाश शर्मा  

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर रचना .... सार्थक संदेश देती हुई

    मन का दीप
    रोशन कर देखो
    खुशी ही खुशी


    दीपावली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .बहुत अद्भुत अहसास.सुन्दर प्रस्तुति.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये आपको और आपके समस्त पारिवारिक जनो को !

    मंगलमय हो आपको दीपो का त्यौहार
    जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
    ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
    लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर रचना ....दीपावली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर!
    दीपावली की अनंत शुभकामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर.....आपको भी दीपावली की बहुत शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    दीवाली का पर्व है, सबको बाँटों प्यार।
    आतिशबाजी का नहीं, ये पावन त्यौहार।।
    लक्ष्मी और गणेश के, साथ शारदा होय।
    उनका दुनिया में कभी, बाल न बाँका होय।
    --
    आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भाव लिए अति सुन्दर रचना.....
    आपको सहपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. आओ सब एक दीप जलायें,
    मिलजुल कर त्यौहार मनायें.
    भेद भाव के अंधियारे को
    मिलकर के हम आज भगायें.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बाल चिन्तन पर प्रभावकारी ढंग से दीपावली मनाने की सीख देती सुंदर व् सम्पूर्ण रचना हेतु बधाई स्वीकारें सर ...आपको व् आपके सभी स्नेही स्वजनों को दीपावली की हार्दिक बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  10. हर त्यौहार खुशी लाता है,
    प्रेम प्रीत से सभी मनायें.
    धर्म जाति का भेद भुलाके,
    आओ सबको गले लगायें.

    इसीमें जीवन की सार्थकता है दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. किसी भी घर न हो अंधियारा,
    एक दीप हर द्वार जलायें.
    एक एक टुकड़ा मिठाई का
    मिल कर साथ सभी के खायें.

    बहुत सुन्दर सन्देश

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...