सोमवार, 31 दिसंबर 2012

नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है


हो रहा पुराना वर्ष विदा,
नव वर्ष खुशी लेकर आये.
कुछ ऐसा करना है हमको,
सारे जग में खुशियाँ छाये.

न भेद भाव मनों में हो,
सब ओर प्रेम बरसायें हम.
भूखा सोए न कोई बच्चा
थोड़ा सा उनमें बाँटें हम.

शिक्षा पर सब का हक हो,
बचपन न पिसे मशीनों में.
हैं करें कामना सभी आज,
खुशियाँ हों उनके जीवन में.

नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है,
सब और नयी खुशियाँ लाना.
ऐसा न करें हम कार्य कोई,
जिससे न पड़े फिर शर्माना.

कैलाश शर्मा 

10 टिप्‍पणियां:


  1. बच्चों का मन भावन रचना :
    नई आशा नया विश्वास से आगे बदना होगा
    नै पोस्ट: नया वर्ष मुब्बरक हो सब को , कानून में प्रावधान क्या हो ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर कामना
    नववर्ष की शुभकामनाएँ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभम् सुन्दरम ...
    नववर्ष मंगलमय हो

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत प्यारी कविता
    आपको भी शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...