गुरुवार, 30 मई 2013

बच्चे तो कच्ची मिट्टी हैं


बच्चे तो कच्ची मिट्टी हैं,
जैसे चाहो ढल जायेंगे.
जो राह दिखाओगे उनको,
उन राहों पे बढ़ जायेंगे.

कच्ची मिट्टी के बरतन को
कोमल हाथों गढ़ना होता.
आने पर सही समय पर ही
भट्टी में है तपना होता.

बच्चों का बचपन मत छीनो,
न खेलकूद से उनको रोको.
उनकी रुचियों का ध्यान रखो,
न व्यर्थ उन्हें हर पल टोको.

संस्कार जो ड़ालें बचपन में,
वह ही स्वभाव में ढल जाते.
देते जो शिक्षा हैं बच्चों को,
उसको ही वे आगे अपनाते.

बच्चे तो एक धरोहर हैं,
सपना आने वाले कल का.
जैसा आज उन्हें तुम दोगे,
कल वैसा ही होगा उनका.

....कैलाश शर्मा 

22 टिप्‍पणियां:

  1. कच्ची मिट्टी के बरतन को
    कोमल हाथों गढ़ना होता.
    आने पर सही समय पर ही
    भट्टी में है तपना होता.,

    बहुत उम्दा लाजबाब अभिव्यक्ति ,,,


    Recent post: ओ प्यारी लली,

    उत्तर देंहटाएं
  2. बच्चों का बचपन मत छीनो,
    न खेलकूद से उनको रोको.
    उनकी रुचियों का ध्यान रखो,
    न व्यर्थ उन्हें हर पल टोको.

    बहुत सुंदर ..... यह बाल कविता बड़ों के लिए है वो ही हर समय टोकते रहते हैं बच्चों को ये करो ये मत करो :):)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बच्चों का बचपन मत छीनो,
    न खेलकूद से उनको रोको.
    उनकी रुचियों का ध्यान रखो,
    न व्यर्थ उन्हें हर पल टोको.-- बच्चे कल के भविष्य है . उन्हें अपनी रूचि के अनुसार काम करने दें

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए शनिवार 01/06/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्‍दर रचना
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें
    टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें
    MY BIG GUIDE
    नई पोस्‍ट
    अपने ब्‍लाग के लिये सर्च इंजन बनाइये
    अपनी इन्‍टरनेट स्‍पीड को कीजिये 100 गुना गूगल फाइबर से
    मोबाइल नम्‍बर की पूरी जानकारी केवल 1 सेकेण्‍ड में
    ऑनलाइन हिन्‍दी टाइप सीखें
    इन्‍टरनेट से कमाई कैसे करें

    उत्तर देंहटाएं
  6. बच्चे तो एक धरोहर हैं,
    सपना आने वाले कल का.
    जैसा आज उन्हें तुम दोगे,
    कल वैसा ही होगा उनका.,,,,,बहुत सुन्‍दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर रचना | छुट्टियों में तो बालकों की ऐश हो रही है |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  8. जैसा आज उन्हें तुम दोगे,
    कल वैसा ही होगा उनका.
    वाह बहुत ही बढ़िया भाव संयोजन से सजी सुंदर एवं प्रेरणात्म्क रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही बात है , बच्चे तो कच्ची मिटटी की तरह ही होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  10. सहज, सरल अभिव्यक्ति में बड़ी गूढ़ बात कह दी आपने कैलाश जी !
    बच्चे तो एक धरोहर हैं,
    सपना आने वाले कल का.
    जैसा आज उन्हें तुम दोगे,
    कल वैसा ही होगा उनका.
    वाकई बच्चों का आज जितना आनंदमय होगा उनका भविष्य उतना ही सुखद होगा ! बहुत सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (31-05-2013) के "जिन्दादिली का प्रमाण दो" (चर्चा मंचःअंक-1261) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  12. sahi kaha aapane inhe kisi bhi sndar aakar men dhala ja sakata hai

    उत्तर देंहटाएं
  13. बच्चे तो एक धरोहर हैं,
    सपना आने वाले कल का.
    जैसा आज उन्हें तुम दोगे,
    कल वैसा ही होगा उनका.
    बेहतरीन दास्ताने बचपन......आज के सन्दर्भ में बहुत जरूरी है यह कविता अधिकांस पाठकों तक पहुंचे ..बहत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्‍छी, सार्थक कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  15. sahi kaha jo ham use dete hain .......wahi wo grahan karta hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. आदरणीय कैलाश शर्मा जी , आपके बाल-गीतों में सदैव एक सार्थक संदेश होता है. सचमुच ही मनन करने का विषय है कि हम जैसा बोयेंगे, वैसी ही फसल पायेंगे. वर्तमान में बचपन अपनी स्वाभाविकता खोता जा रहा है. हम ही उन्हें प्रकृति से दूर करते जा रहे हैं.सहज बाल-क्रीड़ा की आयु में भारी-भरकम बस्तों के बोझ तले उनके बचपन को दबाते चले जा रहे हैं. प्रस्तुत कविता महज बाल-गीत ही नहीं है, यह वास्तव में बड़ों के लिये एक विचारणीय प्रश्न है.मनन करें, सही राह स्वयम् दिखाई देगी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुंदर रचना ....सच बच्चे तो कैसे भी ढल जाते हैं ...कुम्हार में हुनर होना चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  18. कल 14/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...