बुधवार, 14 दिसंबर 2011

जब भी मोर नाचता वन में



जब भी मोर नाचता वन में,
खुशियाँ छा जाती हैं मन में.
पंख खोल जब नाच दिखाता,
रंग बिखर जाते हैं वन में.


नीली प्यारी लम्बी गर्दन,
उस पर बिखरे सोने के कण.
सिर पर सुन्दर ताज सजा है,
तुम्हें मानते राजा पक्षी गण.


इतने सुन्दर पंख न देखे,
जैसे चन्द्र उगे अम्बर में.
पीले, हरे रंग भी बिखरे,
इन लम्बे चमकीले पर में.


आते हैं जब काले बादल,
मोर नाचते हैं जंगल में.
कुहू कुहू आवाज गूंजती,
उत्सव आजाता जंगल में.


26 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और मनोहारी बाल कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत प्यारी, मोर-सा सुन्दर, न्यारी कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मोर की सुंदरता से सुसजित प्यारी सी बाल कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस सुन्दर प्रस्तुति पर हमारी बधाई ||

    terahsatrah.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही खुबसूरत और कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर मनोहारी बाल कविता|

    उत्तर देंहटाएं
  7. कोमल एहसासों से सजी हुई प्यारी रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-729:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल 16/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह-वाह!
    बहुत प्यारा बाल गीत है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मनोहारी सुंदर बाल रचना,...बढ़िया पोस्ट ...
    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    नेता,चोर,और तनखैया, सियासती भगवांन हो गए
    अमरशहीद मातृभूमि के, गुमनामी में आज खो गए,
    भूल हुई शासन दे डाला, सरे आम दु:शाशन को
    हर चौराहा चीर हरन है, व्याकुल जनता राशन को,

    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  12. मोर के इंद्रधनुषी रंगों का मनोरम वर्णन.सुंदर बाल-गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  13. मोर के इंद्रधनुषी रंगों का मनोरम वर्णन.सुंदर बाल-गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर रचना, सुन्दर भावाभिव्यक्ति , बधाई.


    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें, प्रतीक्षा रहेगी .

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...