गुरुवार, 1 दिसंबर 2011

आओ चलो पार्क में खेलें

                           पढ़ते समय ध्यान से पढ़ते,
                           होम वर्क हम मन से करते.
                           तन मन में ताज़गी जगाने,
                           आओ चलो पार्क में खेलें.


                          कार्टून, टी वी कम देखें,
                          वीडियो गेम भी थोडा खेलें.
                          देखो  मौसम कितना अच्छा,
                          आओ चलो बॉल से खेले.


                          खेल हैं तन मज़बूत बनाते,
                          प्रेम और सद्भाव जगाते.
                          नये नये हैं मित्र भी बनते,
                          जब बाहर जाकर के खेलें.

20 टिप्‍पणियां:

  1. बच्चों को अच्छा संदेश देती कविता।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बच्चों का अनुपम कोना..बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाकई आजकल बहुत ज्यादा जरूरत है बच्चों को बाहर जाके खेलने की लिए उत्साह जागने की और यही संदेश देती बहुत बढ़िया कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रस्तुति इक सुन्दर दिखी, ले आया इस मंच |
    बाँच टिप्पणी कीजिये, प्यारे पाठक पञ्च ||

    cahrchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर सन्देश देती हुई प्यारी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सन्देश देती हुई बालकविता ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छा बालगीत। हर बच्चों को पढ़ाना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बच्चों को अच्छा संदेश देती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर बाल रचनाये कैलाश जी , कविताई विधायों पर मजबूत पकड़ है आपकी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. कल 27/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुद्नर सन्देश-परक बाल रचना ..

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...