मंगलवार, 5 अप्रैल 2011

चुनमुन चुनमुन प्यारे बच्चे

चुनमुन चुनमुन प्यारे बच्चे,
होते  हैं  ये  मन  के  सच्चे.

गंगा जैसा है निर्मल मन,
यमुना  जैसा  चंचल पन.
कोई  उनको नहीं पराया,
सबसे  रखते  अपनापन.

पल भर में झगड़ा कर लेते,
दूजे  पल  हैं  गले  लगाते.
कभी  डरेंगे  चूहे  से  भी,
कभी शेर से लडने जाते.

नहीं जाति का बंधन कोई,
नहीं  धर्म  की  दीवारें.
न गोरे  काले  का  अंतर,
न  दौलत की  मीनारें.

रखें  हौसला नभ  छूने का,
और हिमालय पग के नीचे.
उड़ना  चाहें  तितली जैसा,
ऊंचे  वृक्ष भी  इनको नीचे.

रहे  सदां  कायम  भोलापन,
नहीं कलुष हो मन की शुचिता.
करें  प्रफुल्लित  सूरज जैसा,
शुभ्र  चांदनी  सी  शीतलता.

14 टिप्‍पणियां:

  1. चुनमुन चुनमुन प्यारे बच्चे,
    होते हैं ये मन के सच्चे.

    गंगा जैसा है निर्मल मन,
    यमुना जैसा चंचल पन.
    कोई उनको नहीं पराया,
    सबसे रखते अपनापन.

    बहुत ही सुन्दर

    आपकी जितनी तारीफ करू उतनी कम इस पोस्ट को ढेर सारा प्यार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बच्चे तो होते ही है मन के सच्चे|

    बहुत सुन्दर कविता| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह वाह , आनंद आ गया , बच्चों से भला कोई नहीं इनसे बहादुर कोई नहीं ! बड़े होकर लगता है बहुत कुछ खो दिया हमने ! हार्दिक शुभकामनायें आपको


    ऊंचे वृक्ष भी इनको नीचे...
    ठीक कर लीजियेगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. खें हौसला नभ छूने का,
    और हिमालय पग के नीचे.
    उड़ना चाहें तितली जैसा,
    ऊंचे वृक्ष भी इनको नीचे.

    वह वह ... सर मुझे आपके सबे पोस्ट बहुत अच्छे लगते है !मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  5. aadarniy sir
    bahut hi achhi lagi aapki yah pyari rachna .
    bachpan to bachpan hi hota hai .kash!bachpan sa swarup hamesha bana rahta to kitna hi achha hota.
    bahut abhut badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  6. aanand aa gaya aapki ye rachna padh kar. ab tak padha tha ki aap bacchon par bahut acchhi kavitayen likhte hain aaj jaan bhi liya.

    उत्तर देंहटाएं
  7. nice कृपया comments देकर और follow करके सभी का होसला बदाए..

    उत्तर देंहटाएं
  8. sunder rachna ke liye aapko badhai.
    main bal sahitya me p h d kr rahi hun
    aapse sahyog ki ummeed rakhti hun.

    उत्तर देंहटाएं
  9. गंगा जैसा है निर्मल मन,
    यमुना जैसा चंचल पन.
    कोई उनको नहीं पराया,
    सबसे रखते अपनापन.

    बहुत ही सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  10. पल भर में झगड़ा कर लेते,
    दूजे पल हैं गले लगाते.
    कभी डरेंगे चूहे से भी,
    कभी शेर से लडने जाते.
    --
    बहुत सुन्दर बाल मन की रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर बाल मन का चित्रण... प्यारी कविता...

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...