मंगलवार, 7 मई 2013

गर्मी की छुट्टियाँ हो गयीं


अब पुस्तक हैं बंद हो गयीं,
गर्मी की छुट्टियाँ हो गयीं.

अब न ज़ल्दी उठना होता,
न स्कूल की चिंता होती.
वीडियो गेम हैं रोज़ खेलते,
कार्टून पर रोक न होती.

अब मस्ती होती है दिन भर,
चिंतायें सब ख़त्म हो गयीं.

जायेंगे घूमने पहाड़ पर,
हम ऊँचे ऊँचे पहाड़ देखेंगे.
कहीं पे बहते झरने होंगे,
नयी नयी जगह देखेंगे.

ठंडा मौसम होगा पहाड़ पर,
गर्मी से छुट्टी है हो गयी.

हम जायेंगे नानी के भी,
रोज नए पकवान खायेंगे.
घूमेंगे नाना के साथ में,
रोज़ नए टॉयज लायेंगे.

रोज़ सुनेंगे हम नयी कहानी,
खुशियों की बरसात हो गयी.

खुशी खुशी स्कूल जायेंगे,
फिर हम अपना बैग सजाकर.
होगी थकान सब दूर हमारी,
होगी पढ़ाई फिर मन लगाकर.

जब स्कूल खुलेंगे तब देखेंगे,
अभी तो मस्ती है हो गयी.

....कैलाश शर्मा 

22 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई गर्मियों की छुट्टी का मज़ा ही कुछ और हुआ करता है। बचपन की याद दिलाती सुंदर कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बचपन के दिन याद दिलाने के लिए धन्यवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर सर! बिल्कुल बचपन वाली गर्मियों की छुट्टियाँ आँखों के आगे आकर खड़ी होकर मुस्कुराने लगीं... :-)
    मगर आख़िरी वाली बात कभी-कभी ज़रा अलग होती है... छुट्टियों के बाद स्कूल जाने का दिल कहाँ करता है?:(
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत प्यारी कविता ...मेरी छुट्टियाँ भी होने को हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. भई वाह ! दिल तो बच्चा है जी ! आपने बच्चों के मन की बात को बड़ी रोचकता के साथ प्रस्तुत कर दिया है ! बड़ी सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत प्यारी बहुत सुंदर बाल कविता!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह बच्चों की मानसिक स्थिति और गर्मी की छुट्टी का
    सुंदर वर्णन
    बधाई शानदार रचना हेतु

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर प्यारी बाल कविता,अपना बचपन याद आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  9. अब तो मज़े करने के दिन आ गए | बच्चों की खुशियों का कोई ठिकाना नहीं | बहुत खूबसूरत रचना | बधाई |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  10. बच्‍चों के उत्‍साह के लिए सुन्‍दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर कविता , पहले हम खुश होते थे अब बच्चे खुश होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  12. बढ़िया प्रेरक बाल गीत काश ऐसा सब जगह हो पाता बच्चों को समर स्कूल /कैम्पस में न ठोका जाता .

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर रचना ,हमें भी यादें वापस दिला दी

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्‍दर रचना काश गर्मियों की छुटिटयों का आनन्‍द हम भी उठा पाते
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की अचंम्भित करने वाली जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें
    टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें MY BIG GUIDE

    शीर्ष पोस्‍ट
    गूगल आर्ट से कीजिये व्‍हाइट हाउस की सैर
    अपनी इन्‍टरनेट स्‍पीड को कीजिये 100 गुना गूगल फाइबर से
    मोबाइल नम्‍बर की पूरी जानकारी केवल 1 सेकेण्‍ड में
    ऑनलाइन हिन्‍दी टाइप सीखें
    इन्‍टरनेट से कमाई कैसे करें
    इन्‍टरनेट की स्‍पीड 10 गुना तक बढाइये
    गूगल के कुछ लाजबाब सीक्रेट
    गूगल ग्‍लास बनायेगा आपको सुपर स्‍मार्ट

    उत्तर देंहटाएं
  15. आदरणीय आपकी यह अप्रतिम रचना 'निर्झर टाइम्स' पर लिंक की गई है।
    कृपया http://nirjhar-times.blogspot.com पर पधारें,आपकी प्रतिक्रिया का सादर स्वागत् है।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  16. aaj bahut der rahi aapke blog par / khub sari rachnae dekhi ,thnx sr !
    aaj maene apni letest post ka link dena seekha h / :) dekr ja rahi hu
    kitna kuch seekhne ko bcha h is g 1 me mujhe ---
    चाँद

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...