मंगलवार, 22 फ़रवरी 2011

चलो आज सूरज ले आयें

                                        चलो आज सूरज ले आयें,
                                        अन्धकार को दूर भगायें.

                                        मिला तुम्हें है अगर अधिक तो,
                                        उसे सभी मिल बाँट के खायें.

                                        निर्बल का हम बनें सहारा,
                                        हाथ पकड़ कर साथ चलायें.
                                        ताकत पर न गर्व करें हम,
                                        खायी ठोकर, उसे उठायें.
                                        कभी न हिम्मत हारें अपनी,
                                        राह सफलता की हम पायें.

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर कविता है......

    ---------

    मेरे ब्लॉग पर सफ़ेद चमकते पेड़ ......

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर शिक्षा देती बाल कविता|

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी यह रचना ..शुक्रवार को चर्चामंच पर होगी..

    जवाब देंहटाएं
  4. चलो आज सूरज ले आयें,
    अन्धकार को दूर भगायें
    bahut sundar

    जवाब देंहटाएं
  5. मिला तुम्हें है अगर अधिक तो,
    उसे सभी मिल बाँट के खायें.

    बहुत पवित्र और पावन भावना दर्शाता है ये शेर.
    plz.visit: kunwarkusumesh.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर और प्रेरणादायक रचना ..

    जवाब देंहटाएं
  7. namaste,
    aap jese guroojano ke kadamo par chalte huye blog parivaar main kadam rakha hai , sayoug aur utsahvardhan ki asha karoongi.
    krati-fourthpillar.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  8. kam mila ho to bhi baantkar khaaya ja sakta hai..? nahi>... Usme jyaaada maza hai....

    जवाब देंहटाएं
  9. सदभाव जगाती सुंदर प्रेरक रचना..

    जवाब देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...